मन या कर्तव्य

कार्य का चयन अपने मन की अपेक्षा अपने कर्तव्य के आधार पे करना कर्मयोग की साधना है|

Manish on FacebookManish on GoogleManish on TwitterManish on Youtube
Manish
Astrologer & Gita-Guide

Leave a Reply