धार्यते इति धर्म:

जो किसी आदर्श पर खड़े नहीं रहते वे हर आकर्षण पर गिरते हैं. जो धारण करता है वही धर्म है.

Manish on FacebookManish on GoogleManish on TwitterManish on Youtube
Manish
Astrologer & Gita-Guide

Leave a Reply