कर्मयोग संक्षेप में

ना किसी से ईर्ष्या
ना किसी से होड़
अपनी-अपनी मंज़िलें
अपनी-अपनी दौड़

[Received the above lines via WhatsApp – modified slightly.]

Manish on FacebookManish on GoogleManish on TwitterManish on Youtube
Manish
Astrologer & Gita-Guide

Leave a Reply